Got Questiones

 
 
 
कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्या है?
एक हजार वर्ष का राज्य क्या है, और क्या इसे शब्दिक रूप मे समझना चाहिए?
अंत के समयो की भविष्यवाणीयो के अनुसार क्या होने वाला है?
विपत्तिकाल के सम्बन्ध मे मेघारोहण कब घटित होगा?
क्या आत्मा के आश्चर्यजनक वरदान आज के लिए है?
मैं पवित्र आत्मा से कैसे परिपूर्ण हो सकता हूँ?
आत्मा की अगुवाई से बोलने का क्या अर्थ है? क्या आत्मा की अगुवाई में बोलने का वरदान आज भी है?
पवित्र आत्मा कौन है?
मैं परमेश्वर के साथ ठीक प्रकार से कैसे रह सकता हूँ?
मैंने अभी ही अपना विश्वास यीशु में रखा है … अब क्या?
चर्च (कलिसिया) क्या है?
चर्च (कलिसिया) का क्या उदेश्य है?
क्या स्त्रियों को उपदेशों (पादरियों)/प्रचारकों के रूप में सेवा करनी चाहिये?
क्रिश्चियन नामकरण संस्कार का क्या महत्व है?
कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्या है?

कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्या है?

मेघारोहण शब्द बाइबल मे नही लिखा मिलता है। मेघारोहण का विचार, लेकिन , पवित्रशासत्र मे स्पष्टता से सिखया गया है। कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) वह घटना है जिसमे परमेश्वर सभी विश्वासीयो को धरती पर से निकाल लेगे जिससे कि विपत्ति के समय अपने पवित्र न्याय को धरती पर उडेले जाने का रास्ता बनाया जा सके। मेघारोहण मुख्यता थिस्सलुनीकियो 4:13-18 और कुरिन्थियो 15:50-54 मे वर्णीत है। परमेश्वर सभी विश्वासीयो, को जो मर चुके है पुनर्जीवित करेगे, उन्हें महिमामय देह देगे, और उन्हे धरती पर से उठा लेगे, उन सब विश्वासीयों के साथ जो जीवित होगे और इनको भी उस समय महिमामय देह दी जाएगी। “क्योंकि प्रभु, आप ही स्वर्ग से उतरेगा; उस समय ललकार, और प्रधान दूत का शब्द सुनाई देगा, और परमेश्वर की तुरही फूंकी जाएगी; और जो मसीह मे मरे है, वे पहले जी उठेगे। हम जो जीवित और बचे रहेगे उनके साथ बादलो पर उठा लिये जाएंगे कि हवा मे प्रभु से मिले और इसी रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेगे” (थिस्सलुनीकियो 4:16-17)

कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्षण भर मे होने वाले प्रकार का होगा, और हम उस समय महिमामय देह प्राप्त करेगे। “देखो, मैं तुम से भेद की बात करता हू़ं हम सब नही सोएगे, परन्तु सब बदल जाएगे, और यह क्षण भर मे; पलक मारते ही अन्तिम तुरही फूंकते ही होगा। क्योंकि, तुरही फूकी जाएगी और मुर्दे अविनाशी दशा मे उठाए जाएगे, और हम बदल जाएगे” (1 कुरिन्थियों 15:51-52)। कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) एक महीमामय घटना है जिसके घटित होने की हम सब को तीव्र इच्छा होगी। हम अतंत पाप से स्वतंत्र होगे। हम हमेशा परमेश्वर की उपस्थिति में होगे। कलिसिया के मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) के अर्थ और आश्य को लेकर बहुत अधिक विवाद है। यह परमेश्वर की मंशा नही है। बल्कि, कलिसिया के मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) के विषय मे, परमेश्वर हम से यह चाहते है कि “इन बातो से एक दूसरो को शन्ति दिया करो”। (थिस्सलुनीकियो 4:18)।

विपत्तिकाल क्या है? हम कैसे जानते है कि विपत्तिकाल सात वर्षो का होगा?
श्यीशु मसीह का पुनरागमन क्या है?
कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्या है?
अन्त समयो के क्या चिन्ह है?
पवित्र आत्मा के विरूद्ध निन्दा क्या है?
हम पवित्र आत्मा को कब/कैसे प्राप्त करते हैं?
मैं कैसे जान सकता हूँ कि मेरा आत्मिक वरदान क्या है?
जीवन का अर्थ क्या है?
अंत के समयो की भविष्यवाणीयो के अनुसार क्या होने वाला है?
क्या बाइबल सच में परमेश्वर का वचन है?
प्रभु भोज/ मसीही संगति का क्या महत्त्व है?
चर्च (कलिसिया) में उपस्थिति होना क्यों महत्वपूर्ण है?
मैं संगठित धर्म में क्यो विश्वास करू?
सब्त किस दिन होता है, शनिवार या रविवार? क्या मसीही लोगों को सब्त का दिन मानना चाहिए?