Got Questiones

 
 
 
कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्या है?
एक हजार वर्ष का राज्य क्या है, और क्या इसे शब्दिक रूप मे समझना चाहिए?
अंत के समयो की भविष्यवाणीयो के अनुसार क्या होने वाला है?
विपत्तिकाल के सम्बन्ध मे मेघारोहण कब घटित होगा?
क्या आत्मा के आश्चर्यजनक वरदान आज के लिए है?
मैं पवित्र आत्मा से कैसे परिपूर्ण हो सकता हूँ?
आत्मा की अगुवाई से बोलने का क्या अर्थ है? क्या आत्मा की अगुवाई में बोलने का वरदान आज भी है?
पवित्र आत्मा कौन है?
मैं परमेश्वर के साथ ठीक प्रकार से कैसे रह सकता हूँ?
मैंने अभी ही अपना विश्वास यीशु में रखा है … अब क्या?
चर्च (कलिसिया) क्या है?
चर्च (कलिसिया) का क्या उदेश्य है?
क्या स्त्रियों को उपदेशों (पादरियों)/प्रचारकों के रूप में सेवा करनी चाहिये?
क्रिश्चियन नामकरण संस्कार का क्या महत्व है?
एक हजार वर्ष का राज्य क्या है, और क्या इसे शब्दिक रूप मे समझना चाहिए?
रश्न: एक हजार वर्ष का राज्य क्या है, और क्या इसे शब्दिक रूप मे समझना चाहिए?

उत्तर:
यीशु मसीह के पृथ्वी पर 1000 वर्ष के राज्य को एक हजार वर्षीय (अथवा मिलेनियम) राज्य का नाम दिया गया है। कई 1000 वर्षो का रूपक शैली मे व्याख्यान करने का प्रयास करते है। कई 1000 वर्षो को मात्र एक लम्बे समय की अवधि को वर्णन करने का एक अलंकारिक तरीका समझते है न कि यीशु मसीह का पृथ्वी पर शब्दिक, दैहिक प्रकार से राज्य। यद्यपि, 6 बार (प्रकाशितवाक्य 20: 2-7) मे, एक हजार वर्षीय राज्य का समयकाल स्पष्टता से 1000 वर्ष कहा गया है। यदि परमेश्वर का इच्छा एक लम्बे समय की अवधि को व्यक्त करने की होती, तो वह सहजता से यह किसी निश्चित समयकाल का स्पष्टता से और बार-बार उल्लेख किये बिना कर सकते थे।

बाइबल हम बताती है कि जब मसीह पृथ्वी पर वापस आऐंगे तो वे यरूशलेम मे दाउद के सिहासन पर बैठकर अपने आपको राजा के रूप मे स्थापित करेगे (लूका 1:32-33)। शर्तहीन वाचाए मसीह के राज्य के स्थापना के लिए शब्दिक, दैहिक वापिस आने की मॉग करती है। इब्राहिम से वाचा इसराएल को भूमि, वंशज और शासक और आत्मिक आशिष प्रदान करने की प्रतीज्ञा थी (उत्पति 12:1-3)। पलिश्तिन की वाचा इस्त्रराएल को उनकी भूमि पर दुबारा से स्थापित करने और उसका अधिकारी बनाए जाने की प्रतीज्ञा थी (व्यवस्थाविवरण 30:1-10)। दाउद कीे वाचा इसराएल को क्षमा किये जाने की प्रतिज्ञा थी जिस के द्वारा सारा राष्ट्र आशिषित होगा (यीर्मयाह 31:31-34)।

दूसरे आगमन पर, यह वाचाए पुरी होगी जब इस्त्रराएल को अन्य राष्ट्रो मे से पुन: एकत्रित किया जाएगा (मत्ती 24:31), परिवर्तित (जर्कयाह 12:10-14), और यीशु मसीह, जो मसीहा है के राज्य में उनकी भूमि पर पूनस्थापित किया जाएगा। बाइबल बताती है कि एक हजार वर्ष के राज्य के समय मे पर्यवरणन एवं परिस्थिितया भौतिक तथा आत्मिक रूप से सम्पूर्ण त्रुटिरहित होगी। यह शान्ति का (मीका 4:2-4; यशायाह 32:7-18), आनन्द का (यशायाह 61:7-10), सुख-चैन का समय होगा (यशायाह 40: 1-2), उसमे न गरीबी और न बीमारी होगी (अमोस 9:13-15, योएल 2:28-29)। बाइबल हमे यह भी बताती है कि केवल विश्वासी ही एक हजार वर्ष के राज्य मे प्रवेश करेगे। इस कारण से, यह पूर्णत: धर्मीकता (मत्ती 25:37; भजन सहिता 24:3-4), आज्ञाकारिता (यीर्मयाह 31:33), पवित्रता (यशायाह 35:8), सच्चाई (यशयाह 65:16), पवित्र आत्मा से परिपूर्ण होने का समय होगा (योएल 2:28-29), मसीह राजा के रूप मे शासन करेगे (यशायाह 9:3-7, 11:1-10), और दाउद राज्य प्रतिनिधि होगा (यीर्मयाह 33:15-21; अमोस 9:11),। कुलीन और राज्यपाल भी राज्य करेगे (यशायाह 32:1 मत्ती 19:28),। और यरूशलेम संसार का राजनितिक केन्द्र होगा (जर्कयाह 8:3)।

प्रकाशितय 20:2-7 एक हजार वर्ष के राज्य का सही-सही समयकाल देता है। इन पवित्रशास्त्र के वचनो बिना भी, अनगिनत अन्य वचन है जो मसीह के पृथ्वी पर शब्दिक राज्य की और इगित (इशारा) करते है। बहुत सी परमेश्वर की वाचाओ और प्रतिज्ञाओ को पुरा होना शब्दिक, दैहिक, भविष्य के राज्य पर निर्भर करता है। एक हजार वर्ष के राज्य की शब्दिक व्याख्या और उसके 1000 वर्षो के समयकाल होने से इन्कार करने का कोई भी ठोस आधार नही है।

विपत्तिकाल क्या है? हम कैसे जानते है कि विपत्तिकाल सात वर्षो का होगा?
श्यीशु मसीह का पुनरागमन क्या है?
कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्या है?
अन्त समयो के क्या चिन्ह है?
पवित्र आत्मा के विरूद्ध निन्दा क्या है?
हम पवित्र आत्मा को कब/कैसे प्राप्त करते हैं?
मैं कैसे जान सकता हूँ कि मेरा आत्मिक वरदान क्या है?
जीवन का अर्थ क्या है?
अंत के समयो की भविष्यवाणीयो के अनुसार क्या होने वाला है?
क्या बाइबल सच में परमेश्वर का वचन है?
प्रभु भोज/ मसीही संगति का क्या महत्त्व है?
चर्च (कलिसिया) में उपस्थिति होना क्यों महत्वपूर्ण है?
मैं संगठित धर्म में क्यो विश्वास करू?
सब्त किस दिन होता है, शनिवार या रविवार? क्या मसीही लोगों को सब्त का दिन मानना चाहिए?