Got Questiones

 
 
 
कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्या है?
एक हजार वर्ष का राज्य क्या है, और क्या इसे शब्दिक रूप मे समझना चाहिए?
अंत के समयो की भविष्यवाणीयो के अनुसार क्या होने वाला है?
विपत्तिकाल के सम्बन्ध मे मेघारोहण कब घटित होगा?
क्या आत्मा के आश्चर्यजनक वरदान आज के लिए है?
मैं पवित्र आत्मा से कैसे परिपूर्ण हो सकता हूँ?
आत्मा की अगुवाई से बोलने का क्या अर्थ है? क्या आत्मा की अगुवाई में बोलने का वरदान आज भी है?
पवित्र आत्मा कौन है?
मैं परमेश्वर के साथ ठीक प्रकार से कैसे रह सकता हूँ?
मैंने अभी ही अपना विश्वास यीशु में रखा है … अब क्या?
चर्च (कलिसिया) क्या है?
चर्च (कलिसिया) का क्या उदेश्य है?
क्या स्त्रियों को उपदेशों (पादरियों)/प्रचारकों के रूप में सेवा करनी चाहिये?
क्रिश्चियन नामकरण संस्कार का क्या महत्व है?
मैं कैसे जान सकता हूँ कि मेरा आत्मिक वरदान क्या है?
प्रश्न: मैं कैसे जान सकता हूँ कि मेरा आत्मिक वरदान क्या है?

उत्तर:
कोई जादूई सूत्र या निश्चित परिक्षण नहीं है जो बता सके कि वास्तव में हमारे आत्मिक वरदान क्या है। पवित्र आत्मा जिसे जो चाहता है वह बाँट देता है (कुरिन्थियों 12:7.11) । मसीहियों के लिए एक साधारणत: आने वाली समस्या यह प्रलोभन है कि अपने आत्मिक वरदानों के साथ ऐसे बन्ध जाते है कि हम केवल परमेश्वर की उसी क्षेत्र में सेवा करना चाहते है जिसके लिए हम महसूस करते है कि हमारे पास वरदान है । आत्मिक वरदान इस तरह से कार्य नहीं करते है। परमेश्वर हमे सब बातों में आज्ञाकारिता से सेवा करने के लिए बुलाता है। वह हमे सब वरदान और वरदानों को प्रदान करेगा जो हमे उस कार्य को पूर्ण करने के लिए चाहिए जिसके लिए उसने हमे बुलाया है। हमें दिये गये आत्मिक वरदानों के पहचानने का कार्य कई प्रकार से पूर्ण किया जा सकता है । आत्मिक वरदान की जाँच और सूचीयों पर जबकि पूरी रीति से भरोसा नहीं किया जा सकता है, परन्तु यह निश्चय ही यह समझने में हमारी सहायता करते है कि हमे दिया गया वरदान कहाँ हो सकता है । दूसरों के द्वारा पृष्टि भी हमे दिये गए आत्मिक वरदानों पर प्रकाश डालती है। दूसरे लोग जो हमे परमेश्वर की सेवा करते हुए देखते हैं अक्सर उपयोग किए जा रहे आत्मिक वरदान को पहचान लेते हें जिस का हम महत्व नहीं समझते या नहीं पहचानते हैं । प्रार्थना भी महत्वपूर्ण है। एक व्यक्ति जो पूर्णतया जानता है कि हमें क्या आत्मिक वरदान दिये गये हैं वह स्वयं वरदान देने वाला पवित्र आत्मा है। हम परमेश्वर से कह सकते हैं कि हमे दिखए कि हमारे पास कौन सा वरदान है जिसे से हम अपने आत्मिक वरदान का उसकी महिमा के लिए बेहतर उपयोग कर सके।

हाँ, परमेश्वर कुछ एक को शिक्षक होने के लिए बुलाते हैं और उन्हें सिखाने का वरदान देते हैं । परमेश्वर कुछ एक को सेवक होने के लिए बुलाता है और उन्हें सहायता करने के वरदान से आशिषित करता है। हालाँकि, अपने आत्मिक वरदान को निश्चितता से जानना हम को हमे दिये गए वरदान के क्षेत्र से बहार परमेश्वर की सेवा ना करने की छूट नहीं देता है। क्या यह जानना लाभकारी है परमेश्वर ने हमको क्या आत्मिक वरदान दिया या दिए हैं ? अवश्य यह है । क्या यह गलत है कि आत्मिक वरदानो पर इतना अधिक केन्द्रीत हो कि परमेश्वर की सेवा करने के अन्य अवसरों से चुक जाए ? हा, यदि हम परमेश्वर के द्वारा उपयोग किए जाने के लिए समर्पित है, तो वह हमको जिसकी आवश्यकता है वह आत्मिक वरदान प्रदान करेगा ।

विपत्तिकाल क्या है? हम कैसे जानते है कि विपत्तिकाल सात वर्षो का होगा?
श्यीशु मसीह का पुनरागमन क्या है?
कलिसिया का मेघारोहण (बादलो पर उठाया जाना) क्या है?
अन्त समयो के क्या चिन्ह है?
पवित्र आत्मा के विरूद्ध निन्दा क्या है?
हम पवित्र आत्मा को कब/कैसे प्राप्त करते हैं?
मैं कैसे जान सकता हूँ कि मेरा आत्मिक वरदान क्या है?
जीवन का अर्थ क्या है?
अंत के समयो की भविष्यवाणीयो के अनुसार क्या होने वाला है?
क्या बाइबल सच में परमेश्वर का वचन है?
प्रभु भोज/ मसीही संगति का क्या महत्त्व है?
चर्च (कलिसिया) में उपस्थिति होना क्यों महत्वपूर्ण है?
मैं संगठित धर्म में क्यो विश्वास करू?
सब्त किस दिन होता है, शनिवार या रविवार? क्या मसीही लोगों को सब्त का दिन मानना चाहिए?